बॉडी लैंग्वेज को बेहतर कैसे करें | How to improve body language

body language ko behtar kaise kare

बॉडी लैंग्वेज को बेहतर बनाने के 5 उपाय।

इंटरव्यू के दौरान आपकी योग्यता , व्यक्तित्व जैसे कई अहम पहलुओं को परखने की एक बेहतर कसौटी आपकी बॉडी लैंग्वेज यानी आपके हाव – भाव है ।

body language ko behtar kaise kare

आप कितने भी जानकार क्यों न हों लेकिन आपके उठने – बैठने का तरीका और हाव – भाव आपके कहे का समर्थन नहीं कर रहे तो इंटरव्यू निकालना आपके लिए मुश्किल हो सकता है , खासतौर पर तब जब इंटरव्यू के दौरान मनोचिकित्सक भी आपके पैनल में मौजूद हों ।तो आइए जानें , इंटरव्यू के दौरान आपको अपनी बॉडी लैंग्वेज से जुड़ी किन बातों का ध्यान देना चाहिए जिससे खुद को प्रभावी ढंग से सामने रख सकें ।

1. आपकी परीक्षा प्रवेश से ही शुरू हो जाती है।इसलिए इंटरव्यू के दौरान, कमरे में प्रवेश करते ही आपकी परीक्षा शुरू हो जाती है। जैसे ही आप कमरे में प्रवेश करते हैं, आपके चेहरे पर मुस्कान और आत्मविश्वास होना चाहिए। कुर्सी पर बैठने के बजाय सामने वाले के इशारे का इंतजार करें। यदि मेज के चारों ओर कई कुर्सियाँ हैं, तो उस स्थान को चुनें जहाँ आपके सामने बैठा व्यक्ति आपको बात करने के लिए कम से कम मुड़ता है।

2. आप कैसे बैठते हैं अपने बैठने के पॉश्चयर पर ध्यान दें। आपके शरीर की मुद्रा ऐसी होनी चाहिए जिससे आपका आत्मविश्वास और विनम्रता , दोनों का संतुलन दिखे । दोनों पैरों को जमीन पर टिकाकर सीधे बैठ जाएं। यदि सामने कोई टेबल है, तो आप उस पर अपने हाथ रख सकते हैं या फिर दोनों हाथों को अपनी गोद में रख सकते हैं। अकड़कर बैठने के बजाय आगे की ओर हल्का झुकें।

3. पहले खुद को रिलेक्स फील करें परीक्षक के सामने बैठने का मतलब यह नहीं कि आप इतने ज्यादा सतर्क हो जाएं कि आपका ध्यान सवालों के जवाब के बजाय अपने ऊपर ही हो । आप जिस मुद्रा में बैठे उसमें आराम महसूस करें । बहुत सिकुड़कर या झुककर बैठने से भी आपका व्यक्तित्व दबा लग सकता है ।

4. हाथों पर ध्यान दें, इंटरव्यू के दौरान अपने विचार रखते वक्त या जवाब देते वक्त हाथों को बहुत अधिक हिलाकर बात न करें । अगर हाथ हिलाकर बात करना आपकी आदत में शुमार है, तो इस बात का ख्याल रखें कि बात करते समय हाथ सीने से ऊपर न उठें। नहीं तो आपका व्यवहार आक्रामक लग सकता है ।

कुछ लोगों की आदत होती है टेबल पर पड़ी पेन, ग्लोब या किसी अन्य चीज को हाथ में लेकर उससे खेलते रहना । इंटरव्यू के दौरान इस तरह की कोई गतिविधि न करें क्योंकि इससे आपकी एकाग्रता पर सवाल उठ सकते हैं । और हां , हाथों को मोड़कर बैठने की गलती कतई न करें । आपको सुरक्षात्मक होने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है।

5. बात करते वक्त छोटी – छोटी बातों पर ध्यान दें – परीक्षक से बात करते वक्त आंखों में आंखें डालकर बात करना सही तरीका है । इससे आपका आत्मविश्वास झलकता है ।

  • इंटरव्यू के दौरान हर कोई थोड़ा नर्वस होता है। ऐसी स्थिति में, अपनी घबराहट को छिपाने के लिए बनावटी मुस्कान का सहारा न लें। बातचीत के दौरान हल्के घबराहट अपने आप गायब हो जाती है। अपने चेहरे पर एक सामान्य मुस्कान रखना सुनिश्चित करें। हां, बेवजह हंसने की जरूरत नहीं है।
  • इंटरव्यू के दौरान अगर परीक्षक आपको पानी या चाय ऑफर करता है, तो इसे सामान्य रूप से लें । अगर आपको प्यास लगी है, तो पानी पीकर सामान्य होना समझदारी है। न कि प्यासा रहकर बेचैन रहना । लेकिन आप यह भी ध्यान रखें कि आप घबराहट में जल्दबाजी न करें।
  •  यदि इंटरव्यू के दौरान आप जल्दी-जल्दी पानी पीते हैं, तो यह भी सामान्य नहीं है।
  • इंटरव्यू के दौरान बार – बार बालों पर हाथ फेरना , कपड़े ठीक करना आदि छोटी – छोटी बातें आपकी घबराहट सामने रख देती हैं ।इसलिए बातचीत के दौरान आप जो नहीं हैं , वह बनने का प्रयास करना व्यर्थ है । आप जो हैं , उसे संवारकर पेश करना ही समझदारी है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*