शारीरिक भाषा क्या है ? | What is body language ?

Body Language kya hota hai

शारीरिक भाषा: शारीरिक भाषा बिना बोले बातचीत करने का एक बेहतरीन माध्यम है। जिसे शरीर की मुद्रा , इशारों , और आँखों की गति के द्वारा व्यक्त किया जाता है। और हर मनुष्य बचपन से ही जाने अनजाने में ही इस तरह के संकेत भेजता भी है और समझता भी है।

अक्सर कहा जाता है कि मनुष्य के बातचीत का 93 % हिस्सा शारीरिक भाषा और संकेतों से मिलकर बना होता है। जबकि शब्दों के माध्यम से कुल बातचीत का 7 % हिस्सा ही बनता है।

Body Language kya hota hai

लेकिन 1960 के दशक में इस क्षेत्र में कार्य करके ये आंकड़े देने वाले शोधकर्ता एल्बर्ट मेहराबियन ने कहा था, कि ये दरअसल उनके अध्ययन के परिणाम के आधार पर हो रही एक गलतफहमी है। जिसके बाद अन्य लोगों ने जोर दिया कि ‘ अनुसन्धान के आधार पर बातचीत में छिपे अर्थों का 60 – 70 % हिस्सा शारीरिक भाषा और संकेतों से प्रकट होता है।

शरीर की भाषा किसी के रवैये और उसकी मन की स्थिति के बारे में संकेत दे सकती है। उदाहरण के लिए , यह आक्रामकता , मनोयोग , उबाऊं , आराम की स्थिति , सुख , मनोरंजन सहित अन्य कई भावों के संकेत दे सकती है।

इस तकनीक का उपयोग अक्सर लोगों के व्यक्तित्व को पढ़ने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, साक्षात्कार के दौरान आमतौर पर लोगों को समझने के लिए शरीर की भाषा को प्रतिबिंबित कर के किया जाता है। किसी की शारीरिक भाषा को प्रतिबिंबित करना यह इसरा करता है कि उस इंसान को समझा जा रहा है।शारीरिक भाषा के संकेत का बातचीत से अलग भी कई लक्ष्य हो सकता है। दोनों ही लोगों को ये बात ध्यान में रखनी होगी। वैसे इंटरव्यू-वर बॉडी लैंग्वेज के संकेतों को कितना महत्व देते हैं। ये वो स्वयं निर्धारित करते हैं। 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*